Bank Cheque Kaise Bhare | बैंक चेक (Bank Cheque Book) कैसे भरे

Bank Cheque Kaise Bhareजब हम एक बैंक खाता स्थापित करते हैं, तो हमारे सामने चेकबुक प्राप्त करने या न लेने का विकल्प प्रस्तुत किया जाता है। अधिकांश व्यक्तियों के लिए चेकबुक चुनना और विभिन्न लेनदेन के लिए इसका उपयोग करना आम बात है। हालाँकि, आबादी का एक बड़ा हिस्सा मौजूद है जिसके पास चेकबुक में फ़ील्ड को सही ढंग से पूरा करने के बारे में आवश्यक समझ का अभाव है। परिणामस्वरूप, थोड़ी सी भी त्रुटि के कारण चेक अमान्य हो सकता है।

इस विशेष स्थिति के कारण, हमारे बड़ी संख्या में चेक क्षतिग्रस्त हो जाते हैं, और वर्तमान समय में, बैंक नई चेकबुक प्रदान करने के लिए शुल्क लगाते हैं, जिससे हमारे लिए एक बड़ी समस्या पैदा हो जाती है। इस समस्या को प्रभावी ढंग से संबोधित करने के लिए, हमने बैंक चेक भरने की (Bank Cheque Kaise Bhare) उचित प्रक्रिया पर मार्गदर्शन प्रदान करने के लिए इस लेख की रचना की है, जिससे आप न केवल पर्याप्त समय बचा सकते हैं बल्कि काफी मात्रा में धन भी बचा सकते हैं। यह महत्वपूर्ण है कि व्यापक समझ के लिए आप इस लेख को शुरू से अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें।

Table of Contents

बैंक चेक क्या होता है ? Bank Cheque Kaise Bhare

चेक बैंक के लिए एक ऐसा बिना शर्त लिखित आदेश होता है जिसमें बैंकर को संबोधित किया होता हैं की चेक धारक को चेक में लिखी गई राशि का भुगतान चेक देने वाले के अकाउंट में कर दिया जाए और भारत में मुख्यतः धारक चेक्स, टेल चेक और सेल्फ चेक प्रयोग किए जाते हैं।

बड़ी बड़ी कंपनियां अपने बड़े अमाउंट की पेमेंट चेक के जरिए ही करती है। चेक आज हमारे जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा है, क्योंकि कोई भी बिल जमा करना हो या पेमेंट करनी हो तो चेक के जरिए आसानी से कर सकते हैं।

चेक कितने प्रकार के होते हैं | Types Of Cheque

क्या आपने कभी सोचा है कि कितने अलग-अलग प्रकार के चेक होते हैं? यदि आप चेक का उपयोग कर रहे हैं या उपयोग करने की योजना बना रहे हैं, तो उपलब्ध विभिन्न प्रकारों से अवगत होना आवश्यक है। आइए मौजूद चेक विकल्पों की भीड़ का पता लगाएं।

खाता पेयी चेक / Account Payee Cheque – जब चेक के कोने पर दो समांतर लाइनें बनाई जाती है और इन लाइनों के बीच Account Payee Only लिखा जाता है तो इसे ही Account Payee Cheque कहा जाता है। ये चेक काफी सुरक्षित माना जाता है और इस चेक को कोई व्यक्ति अपने अकाउंट में ही कैश करा सकता है। इस चेक में दूसरों को एंडोर्स करने की क्षमता नहीं होती।

बेयरर चेक / Bearer Cheque – ये चेक वो चेक होता है जिसे हिंदी में वाहक चेक भी कहा जाता है। Bearer Cheque सामान्य रूप से नकद लेनदेन के लिए यूज़ किया जाता है। जब  Bearer Cheque बैंक में प्रस्तुत किया जाता है तो इसके लिए किसी भी पहचान की आवश्यकता नहीं होती। ये चेक दूसरों को भी एंडोर्स किया जा सकता है।

क्रॉस्ड चेक / Crossed Cheque – Crossed Cheque पर ऊपरी हिस्से पर दो समानता लाइनें होती है और इस तरह के चेक का भुगतान नकद में नहीं होता।बल्कि इस तरह के चेक का भुगतान भुगतानकर्ता के खाते में ट्रांसफर किया जाता है। इंडिया के एनआईए एक्ट में ये साफ कहा गया है कि Crossed Cheque का किसी भी कंडिशन में नकद भुगतान नहीं किया जाएगा। लेकिन इसे प्राप्त करने वाला किसी और के नाम इसे आगे बढ़ा सकता है या इंडोर्स कर सकता है।

आदेश चेक / Order Cheque – ऐसे चेक जो किसी विशेष व्यक्ति को दिया जाए, उसे Order Cheque कहा जाता है। इस तरह के चेक में Bearer शब्द को काट दिया जाता है और उसकी जगह पर Order लिख दिया जाता है। इसमें Open Cheque की तरह चेक से अपने अकाउंट में पैसे ट्रांसफर किया जा सकता है। ये चेक के पीछे सिग्नेचर करके किसी दूसरे व्यक्ति को ऑथॉराइज़ भी किया जा सकता है। 

ओपन चेक / Open Cheque – Open Cheque वो चेक होता है जो बैंक में प्रेज़ेंट कर काउंटर पर ही कैश प्राप्त किया जा सकता है। क्लियरेंस के लिए आपको इंतजार करने की जरूरत नहीं होती। Open Cheque को धारण करने वाला व्यक्ति काउंटर पर जाकर चेक दिखाकर अपने पैसे ले सकता है। ये अपने अकाउंट में भी ट्रांसफर करा सकता है।यह चेक के पीछे सिग्नेचर करके किसी दूसरे व्यक्ति को भी ऑथोराइस कर सकता है। 

स्टेल चेक / Stale Cheque – बैंक के नियम के अनुसार हर चेक को अपने लिखित डेट के अंदर यानी की तीन महीने की अवधि के अंदर प्रेज़ेंट करना होता है या क्लियर कराना होता है। अगर टाइम पीरियड पूरा हो जाए तो ऐसे चेक को Stale Cheque कहा जाता है। इस तरह के चेक को बैंक एक्सेप्ट नहीं करती और अगर बैंक भुगतान करती भी है तो एक नया चेक लेके करती है जिसमें करेक्शन करना पड़ता है।

पोस्ट डेटेड चेक / Post Dated Cheque – इस तरह के चेक का भुगतान आने वाली तारीख पर या उस डेट के बाद किया जाता है उस डेट से पहले नहीं किया जाता। 

एंटी डेटेड चेक / Anti Dated Cheque – इस तरह के चेक में डेट बैंक में प्रस्तुत करने के पहले की होती है। ये चेक लास्ट डेट से तीन महीने के पूरा होने तक क्लियर कराया जा सकता है। 

ब्लेंक चेक / Blank Cheque – चेक इस तरह का चेक जिसपर ड्रॉर अपने सिग्नेचर करता है और बाकी सारी जगह खाली छोड़ देता है, उसे ही Blank Cheque कहा जाता है।

इसे भी पढ़ें – क्रेडिट कार्ड क्या होता है हिंदी में बताये? क्रेडिट कार्ड की पूरी जानकारी

आउटस्टैंडिंग चेक / Outstanding Cheque – एक ऐसा चेक जो कंपनी के लेजर्स में तो एंटर किया जाता है लेकिन उसका भुगतान नहीं किया गया होता है और कंपनी के बैंक खाते में भी डेबिट नहीं किया गया है। उसे ही Outstanding Cheque कहा जाता है।

सेल्फ चेक / Self Cheque – Self Cheque के द्वारा खाताधारक स्वयं अपने खाते से चेक का भुगतान कर सकता है। चेक के भुगतान के लिए दिए गए स्थान पर Self लिखना होता है। Self Cheque का भुगतान सिर्फ उसी बैंक से कराया जा सकता है जहाँ खाताधारक का खाता हो। ये किसी और बैंक से भुगतान नहीं कराया जा सकता। 

लोकल चेक / Local Cheque – अगर किसी सिटी का चेक उसी सिटी में क्लियर कराया जाए तो उसे Local Cheque कहा जाता है। ऐसे चेक को अगर सिटी से बाहर ले जा कर क्लियर कराया जाता है तो उसके लिए हमें अलग से पेमेंट करनी होती है। 

आउटस्टेशन चेक / Outstation Cheque – अगर किसी लोकल चेक को सिटी के बाहर ले जाकर क्लिअर कराया जाए तो Outstation Cheque कहलाता है। इसके लिए बैंक कुछ फिक्स चार्जेस लेती है और चेक को क्लियर कर देती है।

ऐट पर चेक / At Par Cheque – ये ऐसा चेक होता है जो पूरी कंट्री में संबंधित बैंक के सभी ब्रान्चेस में एक्सेप्ट किया जाता है और खास बात ये होती है कि इसे क्लियर कराने पर कोई एडिशनल चार्ज भी नहीं देने पड़ते। 

Bank Cheque Kaise Bhare
चेक पर लिखी जानकारी

चेक पर लिखी जानकारी / Bank चेक पर क्या प्रिंट होता है?

बैंक के चेक में कई तरह की जानकारियां होती हैं। बैंक की शाखा का पता लगाने के लिए, आपको शीर्ष पर प्रदर्शित IFSC कोड मिलेगा, इसके बाद आपका खाता नंबर होगा। चेक के निचले भाग में, आपको अध्याय संख्या मिलेगी, जिसमें 23 अंक होते हैं और अलग से लिखे जाते हैं। 

इस अध्याय संख्या के पहले छह नंबर आपके चेक नंबर को इंगित करते हैं, जबकि निम्नलिखित नौ नंबर एमआईसीआर कोड का प्रतिनिधित्व करते हैं। MICR का अर्थ है मैग्नेटिक इंक कैरेक्टर रिकॉग्निशन, और यह नौ अंकों का कोड तीन भागों में विभाजित है, प्रत्येक विभिन्न प्रकार की जानकारी का प्रतिनिधित्व करता है।

संख्या के शुरुआती तीन अंक बैंक की भौगोलिक स्थिति को दर्शाते हैं, जबकि बाद के अंक बैंक के नाम से संबंधित जानकारी प्रदान करते हैं। अंतिम तीन अंक मशीन कोड का प्रतिनिधित्व करते हैं जो बैंक की विशिष्ट शाखा के बारे में विवरण प्रकट करता है। 

इसे भी पढ़ें – What is Share Market in Hindi | शेयर मार्केट क्या है पूरी जानकारी हिंदी में

MICR कोड को शामिल करने के बाद, अतिरिक्त छह नंबर अंकित किए जाते हैं, जो आपके खाते के लिए पहचान कोड के रूप में कार्य करते हैं। इस कोड के जरिए ही आपके अकाउंट की जानकारी एक्सेस की जा सकती है। इसके अलावा, दो और नंबर शामिल हैं, जो लेनदेन आईडी के रूप में कार्य करते हैं। ये दो अंक उस विशिष्ट स्थान को इंगित करते हैं जिसे आपकी चेकबुक असाइन की गई है।

बैंक चेक कैसे भरे | Cheque Bharne Ka Tarika

चाहे चेकबुक किसी भी बैंक से संबद्ध हो, इसे पूरा करने की प्रक्रिया काफी सुसंगत रहती है। यदि आपको बैंक चेक भरने में किसी भी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है या यदि आप त्रुटियां करने के लिए प्रवण हैं, तो कृपया अपने चेक को सही ढंग से भरने के लिए सरलीकृत तरीके के लिए निम्नलिखित चरणों को देखें।

1. शुरू करने के लिए, पे विकल्प का चयन करने से पहले उस व्यक्ति का नाम रखना महत्वपूर्ण है जिसे आप धन प्रदान कर रहे हैं।

2. कृपया याद रखें कि जिस व्यक्ति के नाम का आपने दस्तावेज़ पर उल्लेख किया है, उसे बैंक में फ़ाइल पर नाम से मेल खाने की आवश्यकता है।

3. एक बार जब आप प्रारंभिक विकल्प का चयन पूरा कर लेते हैं, तो अगला विकल्प दूसरे विकल्प में “Rupee” के रूप में जानी जाने वाली वैकल्पिक मुद्रा प्रदर्शित करेगा।

4. अब आपको सबसे ऊपरी भाग पर स्थित निर्दिष्ट Date अनुभाग में Date इनपुट करने की आवश्यकता है।

5. इस विकल्प के बगल में, आपको धन की कुल राशि इनपुट करने की आवश्यकता होती है जिसे आप पहले उल्लिखित व्यक्ति को पारिश्रमिक देने के लिए बाध्य हैं।

Bank Cheque Kaise Bhare
Bank Cheque Bharne Ka Tarika

6. आपको इस मुद्रा को शब्दों में बदलने की आवश्यकता है।

7. मात्रा बताते समय, संख्यात्मक मान के तुरंत बाद Only शब्द को शामिल करना आवश्यक है।

8. एक बार जब आप राशि को शब्दों में लिख लेते हैं, तो आसन्न बॉक्स में संबंधित अंकों को भरकर इसे संख्यात्मक रूप से व्यक्त करना भी आवश्यक है।

9. इसके बाद, आपको नीचे दिए गए अनुसार Signature या Authorised लेबल वाले अनुभाग के नीचे अपने हस्ताक्षर चिपकाने की आवश्यकता है।

इसे भी पढ़ें – Mutual Fund Kya Hai | म्यूचुअल फंड कैसे काम करता है? – हिंदी में

10. बस याद रखें कि आपको ठीक उसी हस्ताक्षर पर हस्ताक्षर करना होगा जो आपके बैंक की फाइल पर है।

11. एक बार जब आप सभी आवश्यक फ़ील्ड भरना पूरा कर लेते हैं, तो PAY विकल्प के ऊपर स्थित खाली क्षेत्र में दो विकर्ण रेखाएँ बनाना आवश्यक है। इन पंक्तियों के बीच में A/c Payee वाक्यांश शामिल करना सुनिश्चित करें।

बैंक का चेक भरते समय ध्यान रखने योग्य बातें / बैंक का चेक भरते समय सावधानियां

बैंक चेक पूरा करते समय, कुछ विवरणों पर बारीकी से ध्यान देना महत्वपूर्ण है, क्योंकि किसी भी त्रुटि से कई जटिलताएँ हो सकती हैं। इसलिए, चेक भरते समय बरती जाने वाली विशिष्ट सावधानियों से खुद को परिचित करना फायदेमंद होगा।

1. आरंभ करने के लिए, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि जिस व्यक्ति को आपने दस्तावेज़ में सूचीबद्ध किया है, उसके बैंकिंग खाते पर एक समान नाम होना चाहिए। इसे सुनिश्चित करने के लिए सलाह दी जाती है कि इसे सीधे उनसे सत्यापित किया जाए।

2. अपना नाम लिखने के बाद कोई खाली जगह छोड़ने से बचना महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे किसी को आपके चेक के आगे अपना नाम जोड़कर बेईमानी से आपके चेक का लाभ उठाने का अवसर मिलता है। यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि किसी भी अनधिकृत संशोधन को रोकने के लिए चेक पर कोई अंतराल या खुली जगह न हो।

3. अतिरिक्त सुरक्षा के लिए, व्यक्ति का खाता नंबर भी लिख लेना उचित है।

4. जब आप शब्दों का उपयोग करके मात्रा व्यक्त करते हैं, तो इसके पहले Only इंगित करने की सलाह दी जाती है, यह सुनिश्चित करते हुए कि कोई भी इसके पहले कोई अन्य शब्द जोड़कर चेक में बदलाव नहीं करता है।

5. संख्यात्मक अंक लिखते समय यह ध्यान रखना आवश्यक है कि एकरूपता बनी रहे तथा उसके आगे एक रेखा खींचकर सटीक संख्या अंकित करें।

6. आपको अपना हस्ताक्षर करना होगा जो आपके बैंक खाते से जुड़ा हो।

7. चेक के उचित संचालन को सुनिश्चित करने के लिए, यह स्पष्ट रूप से इंगित करना महत्वपूर्ण है कि चेक के शीर्ष भाग पर दो विकर्ण रेखाएं खींचकर और A/c Payee लिखकर नामित खाते में भुगतान किया जाना है।

8. ऊपर व्यक्ति का नाम निर्दिष्ट करने से, केवल उसी व्यक्ति को उनके खाते में जमा धनराशि प्राप्त होगी।

इसे भी पढ़ें – (Secret Ways) Income Tax Kaise Bachaye | इनकम टैक्स के बारे में जानकारी

9. यदि आपके चेक में कोई त्रुटि हो जाती है और आप अनजाने में उसे फाड़ देते हैं, तो उसे पूरी तरह से त्यागने की कोई आवश्यकता नहीं है। इसके बजाय, आप इसे आसानी से छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ सकते हैं।

10. यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपका किसी अनुचित तरीके से लाभ न उठाया जाए.

कैंसल चेक कैसे भरे (Canceled Check Kaise Bhare)

1. यदि आपको रद्द किए गए चेक को भरने की आवश्यकता है, तो आप एक नया चेक प्राप्त करके और एक कोने से विपरीत तक फैली हुई दो विकर्ण रेखाएं बनाकर ऐसा कर सकते हैं। यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि दोनों पंक्तियाँ समान लंबाई की हों और उनके बीच अंतर हो।

Bank ChBank Cheque Kaise Bhare
Canceled Check Kaise Bhare

2. इन दोनों लाइनों के बीच में आप CANCELLED शब्द लिख दे |

3. इस प्रकार आपका कैंसिल चेक तैयार हो जाता है.

4. इस विशेष प्रकार के चेक में कोई अतिरिक्त जानकारी देने या हस्ताक्षर करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। 

देखिए स्टेप बाई स्टेप कैसे Bank Cheque भरते हैं

FAQ – Bank Cheque Kaise Bhare से सम्बंधित कुछ प्रश्न-उत्तर

बैंक चेक क्या होता है ?

यदि आपको किसी अन्य व्यक्ति को धन प्रदान करने की आवश्यकता है, लेकिन बैंक जाने या नकदी की पेशकश करने में असमर्थ या अनिच्छुक हैं, तो आप विकल्प के रूप में चेक का उपयोग कर सकते हैं। एक चेक का उपयोग करके, आप कहीं भी जाने की आवश्यकता के बिना किसी को पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं।

चेक कैसे भरे ?

बैंक चेक भरते समय, सावधानी बरतना और सभी आवश्यक विवरणों पर विचार करना महत्वपूर्ण है। सुनिश्चित करें कि आप अनुरोधित जानकारी को सटीक रूप से इनपुट करते हैं और प्रवेश प्रक्रिया को पूरा करने के बाद सब कुछ फिर से जांचना सुनिश्चित करें।

बैंक से चेकबुक कैसे प्राप्त करें ?

यदि आप बैंक में एक नया खाता बनाने का निर्णय लेते हैं, तो बैंक स्वचालित रूप से आपसे चेकबुक का अनुरोध करेगा। हालांकि, यदि आपके पास पहले से ही एक खाता है और उस मौजूदा खाते के लिए चेकबुक की आवश्यकता है, तो बैंक में एक के लिए आवेदन करने के लिए आपका स्वागत है।

चेक के पीछे की तरफ आप क्या लिखते हैं?

यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि बिल का निपटान करते समय आवश्यक जानकारी, जैसे मोबाइल नंबर, कनेक्शन नंबर और अन्य प्रासंगिक विवरण, चेक के पीछे लिखे गए हैं। जब चेक पर हस्ताक्षर करने की बात आती है तो स्थिरता महत्वपूर्ण होती है, इसलिए विभिन्न हस्ताक्षरों का उपयोग करने के बजाय चेक की पूरी श्रृंखला के लिए एक ही हस्ताक्षर का उपयोग करना आवश्यक है। इसके अतिरिक्त, सभी वर्तनी की सटीकता की दोबारा जांच करना महत्वपूर्ण है।

चेक पर कितने नंबर होते हैं?

आपको चेक के निचले भाग में संख्याओं के तीन सेट मिलेंगे। पहला सेट आपके रूटिंग नंबर का प्रतिनिधित्व करता है, दूसरा सेट आपके खाता नंबर का प्रतिनिधित्व करता है, और तीसरा सेट आपके चेक नंबर का प्रतिनिधित्व करता है।

सेल्फ चेक से कितने पैसे निकाल सकते हैं?

इसके अतिरिक्त, बैंक आपको सीधे चेक का उपयोग करके अधिकतम ₹ 100,000 निकालने की अनुमति देता है, जबकि यदि आप किसी तीसरे पक्ष के माध्यम से पूरी तरह से चेक द्वारा धन निकालना चुनते हैं, तो आप ₹ 50,000 तक निकाल सकते हैं।

सेल्फ चेक का मतलब क्या होता है?

जब हम अपने बैंक खाते से आसानी से नकदी निकालना चाहते हैं, तो हम अक्सर धन प्राप्त करने के लिए स्व-जांच लिखने और इसे बैंक में जमा करने की सुविधाजनक विधि का विकल्प चुनते हैं। यह किसी भी बैंकिंग प्रतिष्ठान में जाकर अपने खाते से पैसे तक पहुंचने के लिए एक व्यापक रूप से उपयोग किया जाने वाला और परेशानी मुक्त तरीका है।

चेक पर दो लाइन का क्या मतलब होता है?

इन लाइनों की उपस्थिति का अर्थ है कि धन केवल चेक पर नामित व्यक्ति से संबंधित खाते में स्थानांतरित किया जाना चाहिए। व्यक्तियों के लिए इन लाइनों को खींचना और चेक को “Account Payee या A/C Payee” के साथ एनोटेट करना आम बात है।

चेक पर दो हस्ताक्षर क्यों होते हैं?

एकाधिक हस्ताक्षर न केवल कानून द्वारा अनिवार्य हैं, बल्कि वे किसी संगठन के आंतरिक नियंत्रण प्रथाओं के एक अभिन्न पहलू के रूप में भी काम करते हैं। एक चेक का समर्थन करने वाले कई व्यक्तियों के होने से, शासी निकाय से सटीकता और अनुमोदन की संभावना काफी बढ़ जाती है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि चेक के पूर्व-हस्ताक्षर की अनुमति कभी नहीं दी जानी चाहिए, क्योंकि यह भुगतान प्रक्रिया की प्रामाणिकता और सुरक्षा से समझौता करता है।

Conclusion – निष्कर्ष

तो मेरे दोस्तों, आज आपने बैंक चेक (Bank Cheque Book) कैसे भरे (Bank Cheque Kaise Bare) के बारे में ज्ञान प्राप्त किया। यदि इस विषय के संबंध में आप कोई अन्य जानकारी जानना चाहते हैं, तो कृपया कमेंट्स में अपने विचार साझा करने में संकोच न करें। और यदि आपको हमारे द्वारा प्रदान की गई सारी जानकारी उपयोगी लगी, तो बेझिझक इसे अपने दोस्तों, रिश्तेदारों और समूहों के साथ शेयर करें। आइए मिलकर ज्ञान फैलाएं!

Leave a Comment